A1 + motivational story in hindi|एक सच्ची जीबन सांति की तलश

Spread the love

 

A1 + motivational story in hindi | एक सच्ची जीबन सांति की तलश 

क्या तुम मेरे जीवन की हमसफर बनोगे क्या तुम मुझसे
शादी करोगी विजय के ऐसा कहते ही संगीता आवा आवाज
होकर उसे देखती रह गई वह समझ ही नहीं पाई कि वह क्या कहें
उसने कभी सोचा नहीं था कि विजय के मन में उसके लिए ऐसी
कोई भावना ना ही संगीता ने कभी सोचा था कि वह विजय से
शादी करेगी कई वर्षों से दोनों एक-दूसरे को जानते थे

motivational story in hindi

motivational story in hindi
motivational story in hindi

और दोनों ने साथ में ना जाने कितना वक्त बिताया था जब भी
संगीता को एक कंधे की जरूरत होती तो विजय का कंधा सदैव
रहता संगीता अपनी हर छोटी से छोटी ख़ुशी और बड़े से बड़ा दुख
इस अंजान शहर में विजय से ही सांझा करती हैं
उन दोनों की दोस्ती बहुत गहरी थी जब जब संगीता किसी
रिलेशनशिप में आती तो विजय को बताती और
जब उसका ब्रेकअप होता तब भी वह विजय से ही
दुख जाहिर करती करती

दोस्तों उसका यह पहला ब्रेकअप नहीं था लेकिन दिल तो इस बार भी टूटा

यह सब जानते हुए जब विजय आज संगीता के सामने शादी का तो संगीता भी हैरान हो गई
और अपनी कॉपी खत्म किए बिना और विजय से बिना कुछ कहे बगैर
ऑफिस कैंटीन से अपने चेंबर में लौट आई डी जे ने भी उसे रोकने की कोई कोशिश नहीं की
संगीता के दिमाग में बार-बार यही सवाल आ रहे थे कि वह विजय की बातों को मान जाए
उसे अनदेखा कर दे

A1 + motivational story in hindi || एक सच्ची जीबन सांति 

दोस्तों मरुस्थल के गर्म रेत पर चलते हुए संगीता के पैरों में छाले आ चुके थे
और मृत रिश्ता की तलाश में ना जाने संगीता कब से अकेली भटक रही थी
जिस अमृत रूपी प्रेम का वह रसपान करना चाहती थी वह प्रेम उसे हर बार 0 के रूप में मिलता
संगीता की मां बचपन में ही इस दुनिया से चल बसी सौतेली मां का दुर्व्यवहार और दबाव इतना
रहता कि उसके पिता भी मुझसे प्यार नहीं

motivational story in hindi

इस प्रकार संगीता का बचपन बिना मां बाप के बीत गया
जब जब उसे जिंदगी को अपने ढंग से जीने का अवसर मिला
वहां आंखों में रंगीन सपने लिए इस महानगरी मुंबई में आ पहुंची
यहां उसे लगने लगा उसकी सच्चे प्यार और जीवन साथी की तलाश
जरूर पूरी होगी

motivational story in hindi
लेकिन जब भी उसे ऐसा लगा ने अपना सच्चा प्यार पा लिया है तभी अगले
पल वह प्रेम वासना तब्दील हो गया इस प्रकार आज जब विजय
उसके सामने एक सच्चे प्यार के रूप में खड़ा है तो उसे स्वीकार क्यों नहीं कर रही है
मन में चल रही उलझन सुलझाने के लिए सिगरेट पीने बैठ गई
धीरे धीरे पूरा पैकेट खत्म होने लगा लेकिन इस धुएं में गठिया खुलने की बजाय उसने लगी
और संगीता अपने अतीत के बारे में सोचने लगी जब उसने अपने छोटे
शहर पटना से एमबीए करके इस जगमगाती माया नगरी मुंबई में आई थी kafi दिन से

motivational story in hindi
विजय को जानती है लेकिन वह विजय से प्यार नहीं कर सकती है
विजय उसके दिल के बहुत करीब जरूर है

लेकिन वहां उससे प्यार नहीं करती
विजय उसका सबसे अच्छा और सच्चा मित्र है

संगीता का पहला प्यार
तो पियूष है वह दिल की गहराइयों से चाहती थी और वह भी तो उसका
दीवाना था

एक सच्ची जीबन सांति की तलश

उसके प्यार में वह इस कदर पागल थी कि दुनिया की परवाह करना छोड़ चुकी थी
उसे जीवन साथी पाना संगीता का सपना था
संगीता जब उसे देखती तो उसकी आंखों में डूब जाती की प्यार भरी बातें
संगीता को दीवाना कर देती बेचारी संगीता उसके चक्कर में अपना सब कुछ लुटा बैठे
उसे पता ही नहीं चला और जब होश आया तब तक सब लुट चुका था

motivational story in hindi

और उसका गया था जबकि उसने कहा था संगीता मैं तो तुमसे प्यार करता हूं
लेकिन मैं अपने माता-पिता के विरुद्ध जाकर तुम्हारा साथ नहीं
निभा सकता यह सुनते ही जैसे के जीवन में तूफान आ गया

पियूष उसका पहला प्यार था
जिसे अब संगीता खो चुकी थी
उस वक्त एक विजय ही था
जिसने संगीता के मुश्किल समय में
उसका साथ दिया

motivational story in hindi

यह सब सोच संगीता को घुटन महसूस होने लगी
संगीता की आंखों से नींद कोसों दूर थी
इससे पहले संगीता को रात इतनी डरावनी कभी नहीं
समय में इस मायानगरी मुंबई में चारों तरफ सन्नाटा फैला हुआ था
दिन में कोलाहल से भरा या शहर यामिनी की गोद में सो रहा था
लेकिन संगीता की आंखों से नींद कोसों दूर थी
उसके मन में तो हलचल मची हुई थी

motivational story in hindi

उससे मिली बेवफाई के बाद संगीता ने निश्चय कर लिया था
कि अब वह कभी किसी के प्यार के चक्कर में नहीं पड़ेगी
और ना ही किसी पर विश्वास करेगी
संगीता अपने इन्हीं विचारों के साथ आगे चल पड़ी
तभी उसके दिल के किवाड़ पर आयुष नाम की दस्तक
हुई और एक बार फिर

motivational story in hindi

दिल का दरवाजा खुले मन खोल दिया
लेकिन इस बार वह बहुत सावधान थी
धीरे धीरे- संगीता को लगने लगा पीयूष का
प्रेम जिस्मानी नहीं है लेकिन ऐसा सोचना भी गलत है
असल में आयुष का लक्ष्मी उसके शरीर को ही पाना था

motivational story in hindi

आयुष मौके की तलाश में था संगीता जब उसकी असलियत से
रूबरू हुई तो दोनों के रास्ते जुदा हो गए
और इस बार फिर किसी ने संगीता के साथ बेवफाई करके चला गया
आयुष से ब्रेकअप के बाद उसने उसे अपनी गिरफ्त में इस प्रकार झगड़ा था
कि वह सिगरेट और शराब में अपने आप को डूबने लगी

motivational story in hindi

इस वजह से ऑफिस में ठीक से काम नहीं कर पाती थी
उस वक्त भी बिजी था जिसने संगीता को इस मुश्किलों से
निकाला तब संगीता के मन में विजय के लिए मान सम्मान
और बढ़ गया साथ ही साथ संगीता के मन के एक कोने में प्रेम

motivational story in hindi

जिसे वह दफना देना चाहती थी क्योंकि वह विजय को खोना नहीं
वह अपने आप को उसके काबिल समझाती है यही कारण है कि संगीता ने
अब तक विजय से कुछ नहीं कहा संगीता की जिंदगी से आयुष के जाने के बाद
एक बार फिर चिराग संगीता की जिंदगी में बसंत की बहार बनकर आया

motivational story in hindi

उसकी सारी सच्चाई जानते हुए उसे अपनाना चाहता था संगीता ने इस प्रस्ताव को
अस्वीकार कर दिया क्योंकि चिराग की हसरत थी कि उसे अपने अतीत के साथ साथ
विजय को भी हमेशा के लिए जाना होगा मगर संगीता किसी शर्त के साथ रिश्ते में नहीं
बताना चाहती थी और वैसे भी मोहब्बत में कोई शर्त नहीं होती

motivational story in hindi

संगीता विजय को किसी भी हाल में खोने को तैयार नहीं थी
फिर आज जब विजय सदा के लिए उसका हो जाना चाहता है
तो वह क्यों शादी के लिए हा नहीं कह

एक सच्ची जीबन सांति की तलश motivational story

विजय देखने में भले ही साधारण था मगर उसकी बातों में
ऐसी कशिश थी कि उसके आगे उसका रंग रूप माने नहीं रखता था
तभी संगीता के कंधे पर किसी ने हाथ रखा संगीता ने मुड़कर देखा
तो विजय खड़ा था विजय संगीता के हाथों से सिगरेट लेकर फेंकते हुए
बोला संगीता मैंने तुम्हें समझाया था ना कि सिगरेट मत पिया करो

motivational story in hindi

और तुम विजय ने अभी अपनी बात पूरी भी नहीं कर पाया था
कि संगीता उससे लिपट कर रोने लगी खुद कहा कि विजय तुम यहां से चले जाओ
मैं तुमसे शादी नहीं कर सकती तुम्हारा मुझ पर पहले से ही बहुत एहसान है
लेकिन बस अब और नहीं

motivational story in hindi

क्योंकि विजय यह तुम भी जानते हो और मैं भी जानती हूं
कि मैं तुम्हारे लायक नहीं बातें सुनकर विजय उसे अपनी ओर खींचते हुए
बोला संगीता तुमने ऐसा कैसे सोच लिया कि तुम मेरे लायक नहीं हो

vest motivational story in hindi

तुम तो उन सबके साथ बात दिल से चली थी ना फालतू उनके इरादे थे
जिन्होंने तुम्हारे शरीर को मलिन कर दिया देखो संगीता शादी के लिए
सबसे जरूरी होता है अपने जीवनसाथी के प्रति समर्पित होना
वफादार होना और जो तुम हो

ऐसा कहते ही संगीता विजय की बाहों में
सिमट गई आज इतना भटकने के बाद संगीता
को सही जीवन साथी मिल था

motivational stories in English,

4 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *